Monday, June 5, 2023

-छोटी-छोटी पार्टियों से गठजोड़ कर उन्हें साझीदार बना रहे बड़े दल

यूपी में छोटे दल फिर सत्ता बनाने में ट्रंप कार्ड साबित होते नजर आए
-यूपी में छोटे दलों की बढ़ी भूमिका, सत्ता पाने के खेल में बन रहे मददगार

लखनऊ। यूपी में विधानसभा चुनाव में छोटे दल एक बार फिर सत्ता बनाने में ट्रम कार्ड साबित होते नजर आ रहे हैं। यही वजह है कि जिन्हें कभी वोटकटवा माना जाता था, आज वे सत्ता पाने में मददगार साबित हो रहे हैं। दरअसल जातीय व क्षेत्रीय समीकरण के आधार पर छोटी-छोटी पार्टियों से गठजोड़ कर उन्हें साझीदार बनाया जा रहा है। फिलहाल अपना दल का बीजेपी से गठबंधन जारी है। उधर, आरएलडी ने सपा से गठबंधन किया है। वहीं सीटों के बंटवारे को लेकर पेंच फंसा हुआ है।


यूपी में अमूमन छोटे दलों से गठबंधनबहुत कम हुआ करते थे, लेकिन भाजपा ने विधानसभा चुनाव 2017 में इस दिशा में नई राह खोली। अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी जैसे दलों से गठबंधन किया। अपना दल नौ सीटें जीतकर आई तो सुभासपा ने चार सीटें जीतीं। सुभासपा आगे चलकर इतना नाराज हुई कि भाजपा का साथ छोड़ गई। सुभासपा के ओमप्रकाश राजभर ने सपा से गठबंधन किया है। हालांकि, बीच-बीच में उनके भाजपा के साथ जाने की अटकलें लगती रहती हैं।

Ads code goes here

केंद्रीय राजनीति में छोटे दलों से गठजोड़ का जो फार्मूला निकला उसे राज्य स्तर पर भी अमल में लाया गया। यही वजह रही कि बड़े दलों को छोड़कर छोटे दलों को साथ लेने मुनासिब माना जाने लगा। यूपी की राजनीति में वर्ष 2017 के चुनाव में भाजपा छोटे दलों को साथ लेकर चली। नतीजा सभी के सामने है। इसी राह पर अब समाजवादी भी चल पड़ी है। यूपी में 7 चरणों में चुनाव होंगे।

यूपी में इन चरणों के तहत 10 फरवरी, 14 फरवरी, 20 फरवरी, 23 फरवरी, 27 फरवरी, 3 मार्च और 7 मार्च को मतदान होगा। 10 मार्च को चुनाव के नतीजे आएंगे। पहले चरण की शुरुआत पश्चिमी यूपी के जिलों से होगी और धीरे-धीरे कारवां बढ़ते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश पर जाकर समाप्त होगा। यूपी में इस बार भी चुनाव पिछली बार की तरह वेस्ट यूपी से शुरू होंगे। आखिरी चरण पूर्वांचल में होगा। पहले चरण में 58 और आखिरी चरण में 64 विधानसभा सीटों में वोटिंग होगी।

spot_img
khariduniyahttp://khariduniya.com
"डंके की चोट " पर मै खरी दुनिया हू मै खरी दुनिया हू.... मै भ्रष्टाचारियों के बीच अकेला, लेकिन खरी दुनिया हू, मै हर हाल मे उन खबरो को, लोगो तक पहुचाने की कोशिश करता हू, जो अधिकांश बिकाऊ और बिकी मीडिया से, अपने "आका" के इशारे पर छुपा दी जाती हैं। मै इस लिए खरी दुनिया हू, क्योकि हमारी सरकार यानि "भारतीय जनता पार्टी " भ्रष्टाचार और अपराध को लेकर "जीरो टालरेंस " क़ी हिमायती हैं। मै भाजपा की इस नीति का पालन करने और कराने के लिए "डंके की चोट" पर कफ़न "सर" पर लिए खुद को नियमबद्ध रखते हुए हाजिर हू....मै खरी दुनिया हू.... भ्रष्टाचारीयो मे अफसर हो, या गाव का प्रधान, मै पदीय अधिकारों क़ी आड़ मे क़ी गई उनकी अनियमित्ता के साक्ष्य को खोजने का काम करता हू , .....क्योकि मै खरी दुनिया हू।
Latest news
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img
Related news

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें