हिरन का शिकार करते एक शिकारी गिरफ्तार, दो साथी फरार

बांदा। हिरनों का शिकार करना प्रतिबंधित है। इसके बाद भी जिन क्षेत्रों में बहुतायत हिरन पाए जाते हैं वहां अक्सर चोरी-छिपे शिकारी शिकार करते हैं। तमाम प्रयासों के बाद भी शिकारियों पर अंकुश नहीं लग पा रहा है। शुक्रवार को भी एक हिरन का शिकार किया गया। इस मामले में पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। जबकि उसके दो साथी फरार होने में सफल हो गए हैं।

अपर पुलिस अधीक्षक लक्ष्मी निवास मिश्रा ने इस सम्बंध में बताया कि एक फरवरी की रात्रि को तिंदवारी पुलिस गस्त कर रही थी। तभी मुखबिर की सूचना पर प्रताप निषाद उर्फ नब्बू निवासी रमपुरवा मुरवल थाना बबेरू को गिरफ्तार किया गया। जिसके कब्जे से एक मृत मादा हिरन का शव बरामद हुआ। आरोपी के पास एक सूत का जाल था और एक मोटरसाइकिल भी बरामद की गई है। पूछताछ पर उसने अपने दो साथियों के नाम भी बताएं, जो मौके से भागने में सफल रहे हैं। फरार अभियुक्त में राम सिंह उर्फ करिया व सुरेश निषाद उर्फ करिया निवासी मुरवल थाना बबेरू हैं। जिन्हें पकड़ने के लिए दबिश दी जा रही है।

बताते चलें कि चित्रकूट धाम मंडल के बांदा में हिरणों की संख्या अच्छी है। यहां के किसानों का कहना है कि मिरगहनी, तिंदवारी, पिपरहरी, तेरहीमाफी, महोखर, पपरेन्दा, चिल्ला, दहौत्रारा, रेहुनता, खपटिहा, लामा, लुकतरा, पथरी, करहिया, मोहन पुरवा, गोयरा मुगली,अछरौड, मरौली, मौदहा में सैकड़ों काले हिरन खेतों और जंगलों में आराम से देखे जा सकते हैं। यही कारण हैं कि यहां हिरनों का शिकार लोग आसानी से कर लेते हैं। जिसको देखते हो वन विभाग भी अब पहले के मुकाबले काफी सतर्क हो गया है। यहां काले हिरनों संख्या 600 बताई जा रही है।

Share and Enjoy !

Shares